Subscribe Us

एक ग़म कब तलक उठाएं हम

हमीद कानपुरी
एक ग़म कब तलक उठाएं हम।
रोज़ करते नहीं ख़ताएं हम।

रूठने का नहीं सबब जब कुछ,
बेसबब क्यूँ उसे मनाएं हम।

कामयाबी न हाथ आ पायी,
कर चुके अनगिनत सभाएं हम।

याद दिल में रची बसी उनकी,
किस तरह से उन्हें भुलाएं हम।

जुर्म हरगिज़ नहीं है जब कोई,
पा रहे क्यूँ भला सज़ाएं हम।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां