Subscribe Us

तू नहीं तो फिर तिरा पैग़ाम आए


✍️आयुष गुप्ता

तू नहीं तो फिर तिरा पैग़ाम आए

तब कहीं दिल को मिरे आराम आए

 

रंग उड़ जाए मिरे इस चेहरे का

बज़्म में तेरा कभी जो नाम आए

 

तुम न आए तो रही बेरंग महफ़िल

शेर ना साक़ी न कोई जाम आए

 

ज़ब्त-ए-ग़म-ए-मुहब्बत ना रहा अब

हो मुझे आराम या अंजाम आए

 

वक़्त की किल्लत मुझे हर दोपहर हैं

याद से अपनी कहो हर शाम आए

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां