Subscribe Us

गणेश-वंदना



✍️प्रो.शरद नारायण खरे
हे विघ्नविनाशक,बुद्धिप्रदायक, नीति-ज्ञान बरसाओ ।
गहन तिमिर अज्ञान का फैला,नव किरणें बिखराओ।।

कदम-कदम पर अनाचार है,
झूठों की है महफिल
आज चरम पर पापकर्म है,
बढ़े निराशा प्रतिफल

एकदंत हे ! कपिल-गजानन,अग्नि-ज्वाल बरसाओ ।
गहन तिमिर अज्ञान का फैला,नव किरणें बिखराओ ।।

मोह,लोभ में मानव भटका,
भ्रम के गड्ढे गहरे
लोभी,कपटी,दम्भी हंसते
हैं विवेक पर पहरे

रिद्धि-सिद्दि तुम संग में लेकर,नवल सृजन सरसाओ।
गहन तिमिर अज्ञान का फैला,नव किरणें बिखराओ ।।

जीवन तो अब बोझ हो गया,
तुम वरदान बनाओ
नारी की होती उपेक्षा,
आकर मान बढ़ाओ

मंगलदायी, हे ! शुभकारी,अमिय आज बरसाओ ।
गहन तिमिर अज्ञान का फैला,नव किरणें बिखराओ ।।

*मंडला(म.प्र.)


 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां