Subscribe Us

आप बीती कुछ जग बीती (लघुकथा संग्रह)








जीवन के विभिन्न रंगों को अपने में समेटे डॉ. अशोक चतुर्वेदी जी की छप्पन लघुकथाओं का एक अनूठा संगम है, यह पुस्तक- 'आप बीती कुछ जग बीती'। इसकी हर कथा संक्षिप्त, मनोरंजक, सार्थक एवं इंसानी स्वभाव के उज्ज्वल पक्ष की पक्षधर है, जो सुधी पाठकों के अंतर्मन को भले-बुरे का एहसास कराती हुई जीवन पथ पर आगे बढ़ने के लिए मार्ग-प्रशस्त करती है। बस ज़रूरत है, तो सिर्फ़ पठन के साथ मनन करते हुए सकारात्मक सोच के साथ उसे अपने व्यवहार में लाने की। 'आप बीती कुछ जग बीती' संग्रह की लघुकथाओं से गुजरते हुए मैंने पाया कि इसमें से अधिकतर लघुकथाएँ भावनात्मक और मानवीय संवेदनाओं से ओतप्रोत हैं। लेखक डॉ. अशोक चतुर्वेदी छत्तीसगढ़ राज्य के एक वरिष्ठ अधिकारी हैं, जिन्होंने अपने लगभग दो दशक के दीर्घ प्रशासनिक जीवन में गाँव के अंतिम छोर पर स्थित व्यक्ति से सीधा संपर्क रखा और उनके सुख-दुःख में बहुत
ही आत्मीयता से जुड़ाव रखा।
लघुकथा गद्य साहित्य में अभिव्यक्ति की वह नवीनतम और लोकप्रिय विधा है, जो आकार में छोटी है, परन्तु अपनी पूरी बात कम से कम शब्दों में कहने में पूरी तरह से सक्षम है। यह कवि बिहारीलाल के दोहों की तरह 'देखन में छोटन लगे, घाव करे गंभीर' को चरितार्थ करती है। लेखक डॉ. अशोक चतुर्वेदी जी ने अपनी बात इसी विधा में कहने का सफल प्रयास किया है। डॉ. अशोक चतुर्वेदी जी ने अपनी लघुकथाओं में जीवन के हर क्षेत्र में व्याप्त सामाजिक विद्रूपताओं के अलावा उच्च अधिकारियों द्वारा आम आदमी के शोषण, भ्रष्टाचार, जुगाड़, कथनी- करनी भेद, उच्च वर्ग की सम्पन्नता तथा निम्न वर्ग के संघर्षमय जीवन का बहुत ही सीधे, सरल तथा सजीव रूप से सुन्दर चित्रण किया है। इनके पात्र कहीं भी हवाई या काल्पनिक नहीं, बल्कि अपने आसपास के ही प्रतीत हो रहे हैं। चतुर्वेदी जी की लघुकथाएँ कमोबेश रूप से यथार्थ के बहुआयामी पक्षों को संकेत करती हैं, जिनमें व्यंग्य की व्यंजना तथा अर्थ की दूरगामी व्यंजना का समावेश इस प्रकार होता है कि वहखुले अंत की ओर संकेत करती हैं।
डॉ. अशोक चतुर्वेदी जी ने अपनी लघुकथाओं के लिए विषय का चयन अपने परिवेश से ही किया है। उनकी लघुकथाएँ जिस शिद्दत के साथ आज के यथार्थ को एक रचनात्मक संदर्भ देती हैं, वह उनके सुदीर्घ अनुभव, ज्ञान एवं संवेदना के उचित समायोजन का प्रतिफल प्रतीत होता है। शासकीय सेवा में एक वरिष्ठ पद पर कार्य करते होते हुए भी शासन-प्रशासन की अव्यवस्था एवं विद्रूपताओं को बिना किसी लाग-लपेट के कथा का आधार बनाना लेखक डॉ. अशोक चतुर्वेदी के साहस एवं सामाजिक सरोकारों के प्रति जवाबदेही और स्पष्टवादिता का परिचायक है। यथा, 'जनअदालत' में उन्होंने लिखा है- ''आज फिर शांत बस्तर की खूबसूरत वादियों में, शासन के द्वारा किए जा रहे विकास कार्यों की प्रशंसा करने वाले एक उत्साही नौजवान को मुखबीरी के नाम पर 'जन- अदालत' लगाकर नक्सलियों द्वारा मौत की सजा दी गई। पहले उसकी ऊँगलियों के नाखून निकाल दिए गए फिर ऊँगलियाँ काट दी गईं और कठोर यातना के बाद एक वीभत्स मौत।'' पुलिस अधिकारियों के द्वारा प्रभावशाली एवं साधारण आदमी के एक ही प्रकार के प्रकरण में अपनाए जाने वाले दोहरे व्यवहार, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों मंे आयोजित जन अदालत, गौ-सेवा, अदालती कार्यवाही में देरी, उच्चाधिकारियों के कथनी-करनी में भेद और दोहरे चरित्र पर आधारित अनेक लघुकथाएँ, बहुत ही अच्छी बन पड़ी हैं।
इस संग्रह से गुजरते वक्त मुझे कहीं भी अजीब-सा नहीं लगा। सभी लघुकथाएँ सहज, सरल और जीवन्त लगीं, जिन्हें पढ़ना अपने आप में एक अलग अनुभव प्राप्त करना है। संग्रह की लघुकथाएँ पाठकों के समक्ष कई बड़े प्रश्न भी उठाती हैं। मूर्तिपूजा, जीवहत्या, ईश्वर-अल्लाह, दामिनी: एक प्रश्न, बच्चे का भविष्य, अल्पसंख्यक, आरक्षण, महिला आरक्षण, अमीर कौन गरीब कौन में उठाए गए सवाल ऐसे हैं, जहाँ आकर पाठक बहुत कुछ सोचने पर विवश हो जाता है। यहाँ लेखक ने स्वयं इनके उत्तर नहीं दिए हैं, बल्कि पाठकों के समक्ष ही प्रश्न रख दिए हैं। अब पाठकों को ही उनके उत्तर तलाशने होंगे। यथा- ''क्या हत्या और दंगे ईश्वर या अल्लाह की मर्जी से होते हैं?'' ''प्रश्न बड़ा गंभीर है। कौन है ज़्यादा महत्त्वपूर्ण? शरीर या आत्मा?'' ''पर संसद, मंत्रिमंडल एवं विधानसभाओं में यह प्रावधान कब लागू होगा ? होगा भी कभी?'' यूँ तो सीमित कलेवर वाली लघुकथा में परिवेश के चित्रण की ज्यादा संभावना नहीं रहती,परंतु चतुर्वेदी जी ने अपनी कई लघुकथाओं में बहुत ही सुंदर रूप में परिवेश का चित्रण कर दिया है।
जैसे- बढ़ता ड्राईंगरूम: घटते मानवीय रिश्ते, फ्लैट, मकान, ट्रेन की सीटी के मायने, कब्रिस्तान का सच, स्वतंत्रता क्या है ?, अपहरण, इकलौता, एक नन्ही-सी जान, आँसू, तकदीर का फ़साना। विचारों के प्रवाह, संवेदना की गहराई एवं संवादों की मार्मिकता के कारण डॉ. अशोक चतुर्वेदी की कई लघुकथाएँ बहुत ही अच्छी बन पड़ी हैं। विषयों की विविधता इस बात का सूचक है कि लेखक की नजर हर संवेदना पर टिकी है और उन्होंने हर अनुभूति को शब्दों में पिरोने का प्रयास किया है। संग्रह की लघुकथाओं में उनके मानवीय मूल्यों की झलक दिखाई देती है, जिन्हें पठनोपरांत इनकी सम्प्रेषणीयता पाठक के अंतर्मन की गहराई तक उतर जाती है। यथा- ''सात-आठ वर्षीय बड़े बेटे द्वारा अपनी मृत माँ एवं दुग्धपान करते अनुज को अविरल निहारते रहने की पीड़ा, वेदना।'' डॉ. अशोक चतुर्वेदी जी की लघुकथाएँ पारिवारिक जीवन के बदलते हुए रूपों को सामने लाती हैं, जहाँ रिश्तों में खुरदुरापन ही नहीं वीरानापन भी पसर रहा है। यथा- ''घर में साल में कभी-कभार कोई मेहमान या रिश्तेदार एक-दो दिन के लिए आते हैं।'' एक अन्य लघुकथा में उन्होंने लिखा है- ''एक भाई ने अपने सगे भाई को ही गोली मार दी, पैत्रिक सम्पत्ति हथियाने के लिए।'' चतुर्वेदी जी की अनेक लघुकथाओं में जहाँ भावनात्मक रिश्तों की ज़मीन दरक रही है, वहीं उसके उजले अध्याय भी हैं। यथा- 'मदर्स डे' शीर्षक लघुकथा की ये पंक्तियाँ, ''मेरी माँ के लिए है। मेरे पास सिर्फ़ तीस रुपए हैं। क्या इतने में देंगे ?'' एक अन्य लघुकथा 'इकलौता' में उन्होंने लिखा है- ''बेटा, हम तुझे ज़्यादा चाहते हैं, क्योंकि हम तो दो हैं और तू एक ही है।''


डॉ. अशोक चतुर्वेदी जी की लघुकथाएँ भ्रष्ट सरकारी तंत्र, राजनीतिक कुचक्र और उनमें फँसे एक आम आदमी की पीड़ा की सार्थक अभिव्यक्ति है। ''घटना को बीते कई साल बीत गए। विभाग द्वारा अभी आत्महत्या के लिए प्रेरित करने वाले कारणों एवं जिम्मेदारियों का निर्धारण किया जा रहा है।'' इसी प्रकार एक अन्य लघुकथा में उन्होंने लिखा है- ''अ-सरदार जी बड़े ही विनम्र स्वभाव के थे और भ्रष्ट भी। चाटुकारिता के गुण उनमें कूट-कूट कर भरे थे, जो आज के युग में हर मर्ज की
दवा है।'' डॉ. अशोक चतुर्वेदी जी की लघुकथाएँ वर्तमान सामाजिक एवं राजनीतिक व्यवस्था में फैले हुए दिखावटी सत्य के ऊपरी आवरण को भेदकर अंदरूनी वास्तविकताओं को चित्रित करती हुई प्रतीत हो रही हैं। उन्होंने अपनी लघुकथाओं के माध्यम से समाज में व्याप्त मूल्यहीनता, मानवाधिकारों के हनन, बाह्याडंबर, आर्थिक सामाजिक, राजनैतिक, एवं नैतिक विडम्बनाओं पर सीधे-सीधे प्रहार करते हैं। ये लघुकथाएँ जहाँ मानवीय मूल्यों के ह्रास का चित्रण करती हैं, वहीं पाठकों को नए सिरे सेसोचने पर विवश भी कर देती हैं।
डॉ. अशोक चतुर्वेदी जी की भाषा काफी लचीली है, जिसमें वे बातचीत के अंदाज में ही अपनी बात कहते चले गए हैं। सामान्य शब्दों के साथ-साथ उन्होंने कहीं-कहीं भारी भरकम शब्दों का भी प्रयोग किया है, जिनका पर्याय आम बोलचाल के शब्दों में भी उपलब्ध है। यथा- कमोडधारी समाज, विकलित, दुर्दांत, सेवा-सुश्रुशा, मुखबीरी, अ-सरदार आदि। 'आप बीती कुछ जग बीती' की एक और खास बात, जिसका उल्लेख किए बिना बात अधूरी ही रहेगी, वह है- इसकी सुन्दर चित्रकारी। सामान्यतः लघुकथा संकलनों में चित्रों का समावेश नहीं के बराबर होता है, परंतु इस पुस्तक में डॉ. अशोक चतुर्वेदी जी की कल्पना को खूबसूरत चित्रों के माध्यम से जीवन्त बना दिया है- युवा चित्रकार राजेन्द्र सिंह ठाकुर ने। यदि हम यूँ कहें कि चित्रों ने पुस्तक की खूबसूरती में चार चाँद लगा दिए हैं, तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। 'आप बीती कुछ जग बीती' अशोक जी की पहली लघुकथा संग्रह है। यदि हम इस संग्रह की लघुकथाओं को लघुकथा की कसौटी पर कसें, तो संभव है कि कई लघुकथाएँ पूरी तरह से खरी नहीं उतरेंगी। इसे लेखक ने अपने आत्मकथ्य में स्वयं स्वीकार भी किया है, परंतु लेखक की प्रस्तुतीकरण एवं भाव-प्रवणता ऐसी है कि इन्हें पढ़कर हमें सहज ही आभास हो जाता है कि उनमें लेखन की अपार क्षमता है। 'आप बीती कुछ जग बीती' न तो पूरी तरह से कहानी संग्रह है, न आत्मकथ्य और न ही लघुकथा संग्रह। इसे एक नई विधा के रूप में देखा जा सकता है, जो आत्मकथ्य शैली में कहानी की रवानगी से शुरू होकर लघुकथा के कलेवर में हमारे समक्ष प्रस्तुत होती है। आशा ही नहीं, मुझे पूरा विश्वास है कि ये सहज, सरल एवं सारगर्भित लघुकथाएँ निश्चित रूप से सुधी पाठकों के मानस पटल पर अपना प्रभाव छोड़ने में कामयाब होंगी और लोगों में खंडित हो रहे मानवीय मूल्यों के प्रति आस्था जगेगी।


लघुकथा संग्रह : आप बीती कुछ जग बीती
लघुकथाकार : डॉ. अशोक चतुर्वेदी
प्रकाशक : शारदा ऑफसेट प्रा.लि., रायपुर
प्रकाशन वर्ष : 2019
संस्करण : प्रथम
पृष्ठ संख्या : 80
मूल्य : 100


समीक्षक-डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़









 



साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां