Subscribe Us

आज नहीं तो कल आयेंगे



✍️डॉ. ब्रह्मजीत गौतम


आज नहीं तो कल आयेंगे
लेकिन हम अव्वल आयेंगे


मेह्‌नत के पेड़ों पर इक दिन
निश्चित मीठे फल आयेंगे


जीवन की अभिनय-शाला में
कुछ सज्जन कुछ खल आयेंगे


बैठे जो सच की नौका में
वे सब पार निकल आयेंगे


आज भले ही साथ न कोई
पर कल दल के दल आयेंगे


पूछ रहे हैं होरी-धनिया
कब सुख के दो पल आयेंगे


आज नहीं जो आँख मिलाते
वे कल सिर के बल आयेंगे


झाँक सको तो झाँको मन में
लाखों दाग़ उछल आयेंगे


“जीत” तुम्हारी एक ग़ज़ल से
सब मसलों के हल आयेंगे


*ग़ाज़ियाबाद 


 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां