Subscribe Us

मेरे पापा

पुखराज पथिक

पापा है तो इस दुनियां में सबसे वारे न्यारे है,
इसलिए वो मुझको मेरी जान से ज्यादा प्यारे है ।

संघर्षों में जीवन बीता दुःख से कभी न हारे वो ,
मेरे जीवन की कश्ती के केवल वही किनारे है ।

हाथ पकड़ मुझे ले जाते चलना मुझे सिखाते,
हर बच्चे के सच्चे अच्छे पापा सही सहारे है ।

पापा है तो सभी खुशी है मांग भरे माँ हर दिन ,
पापा मेरे सूरज चन्दा लगते भले सितारे है ।

काम न आएं कोई जग में पापा यह बतलाते ,
सच बोले पुखराज सुनो पापा एक हमारे है ।

घुटना दुखे या गरदन कांधे पर वह बिठाते ,
सारी खुशियां होती घर में दिखते रोज नजारें है ।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां