Subscribe Us

क्वालिटी सर्टिफ़िकेट प्राप्त देश का पहला हिन्दी सेवी संस्थान बना मातृभाषा

इंदौर। हिन्दी प्रचार-प्रसार में अग्रणीय मातृभाषा उन्नयन संस्थान को सेवाओं के अन्तरराष्ट्रीय गुणवत्ता मानकों पर खरा उतरने के लिए क्वालिटी सर्टिफ़िकेशन, लंदन द्वारा क्वालिटी सर्टिफ़िकेट प्रमाण-पत्र दिया गया। यह प्रमाणपत्र स्थानीय सभागार में आयोजित कार्यक्रम में डॉ. वेदप्रताप वैदिक, स्विट्ज़रलैंड की पूनम विली जैजलर, हिन्दी के प्रचारक प्रो. राजीव शर्मा, क्यूसी के अध्यक्ष संतोष शुक्ला द्वारा संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को प्रदान किया गया।
क्वालिटी सर्टिफ़िकेशन के संजय पंजवानी ने मातृभाषा उन्नयन संस्थान के केंद्रीय कार्यालय पहुँच कर ऑडिट सर्वे इत्यादि किया। संस्थान द्वारा संस्मय प्रकाशन के माध्यम से पुस्तक प्रकाशन, हिन्दी भाषा के प्रचार-प्रसार संबंधित कार्यों, विश्व कीर्तिमान संबंधित दस्तावेज़, उनकी जानकारी, लोगों द्वारा भरे प्रतिज्ञा-पत्र, हस्ताक्षर बदलो अभियान आदि में जानकारियों की प्रविष्टि, साहित्य वितरण, साहित्यकारों की रचनाओं के मातृभाषा.कॉम पर प्रकाशन, विविध सामाजिक कार्य एवं हिन्दी भाषा प्रचार आंदोलन संचालन, जनजागृति कार्यक्रम संचालित करना तथा हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए आंदोलन चलाना आदि संबंधित कार्यों का सुव्यवस्थित दस्तावेज़ीकरण संबंधित सभी अन्तरराष्ट्रीय मानकों में खरे उतरने के बाद मातृभाषा उन्नयन संस्थान को यह प्रमाण-पत्र मिला है, जिसके कारण संस्थान क्यू सी प्राप्त करने वाला देश का पहला हिन्दी सेवी संस्थान बन सका है।
संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' ने बताया कि क्यू सी सर्टिफ़िकेट मिलने से संस्थान की गुणवत्ता में वृद्धि हुई है और साथ ही, हिन्दी प्रचार कार्यों को बल मिलेगा। क्वालिटी सर्टिफ़िकेशन, लंदन के दल द्वारा संस्थान के कार्यों की विधिवत दस्तावेज़ीकरण को जाँचने के उपरांत संस्थान को अंतरराष्ट्रीय गुणवत्ता प्रणाली क्यू सी से प्रमाणित संस्थान घोषित किया गया है।
उक्त प्रमाण-पत्र संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ.अर्पण जैन 'अविचल' एवं राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य जलज व्यास ने ग्रहण किया।
संस्थान की इस उपलब्धि पर राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. नीना जोशी, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष शिखा जैन, राष्ट्रीय सचिव गणतंत्र ओजस्वी, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य नितेश गुप्ता, सपन जैन काकड़ीवाला, कवि अंशुल व्यास सहित सभी हिन्दीप्रेमियों ने बधाइयाँ प्रेषित कर मनोबल बढ़ाया।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां