Subscribe Us

अहसान करके वो जताते रहे

✍️आशीष तिवारी निर्मल
अपना कह कर के वो मुझे आजमाते रहे, 
ज़ख्म वो देते गए और हम मुस्कुराते रहे! 
 
ख्वाब शीशे की तरह टूटे सब के सब मेरे
मरुस्थल में नदी बन अश्रु हम बहाते रहे! 
 
थी ग़मों की आंधियाँ यूँ चारो दिशाओं से 
 अदने दीप की तरह हम टिमटिमाते रहे! 
 
गया था उनकी बज्म में ग़म सभी मैं भूलने 
अपनी ही महफ़िल में मुझे वो रुलाते रहे!
 
उनका अहसान जीते जी ना लूंगा मैं कभी
अहसान करके वो कम ज़र्फ, जताते रहे!
 
लालगांव
रीवा मध्यप्रदेश
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां