Subscribe Us

हिंदी भारत का अभिमान



✍️डॉ रघुनाथ मिश्र 'सहज'


हिंदी भारत का अभिमान।
हिंदी है आन-बान-शान।

अपनी प्रिय बोली व भाषा,
अपना प्यारा हिंदुस्तान।

हिंदी प्यारी - प्यारी हमें,
हिंदी से ही है सम्मान।

दें आदर हिंदी को सभी,
हिंदी में ही हों सब काम।

बने यही संपर्क भाषा,
दुनियाँ भर में हो पहिचान।

'सहज' बड़ा हो हिंदी-भाल,
कभी न हो इसका अपमान।


*कोटा (राजस्थान)


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां