Subscribe Us

ज़िन्दगी में इस क़दर सि'तम मिल रहे हैं

✍️आयुष गुप्ता
ज़िन्दगी में इस क़दर सि'तम मिल रहे हैं
हर खुशी के साथ अब ग़म मिल रहे हैं
 
हैं मुझे ग़म भी बिछड़ने का अभी से
और ये मुझको खुशी हम मिल रहे हैं
 
ना मिला कोई मुक़ाबिल शख़्स तेरे
ये अलग हैं बात, हमदम मिल रहे हैं
 
लग न जाए लत कहीं तेरी मुझे फिर
एहतियातन हम तुझे कम मिल रहे हैं
 
देखना जिसको कभी ना था मयस्सर
हर जगह उस शख़्स से हम मिल रहे हैं

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 

 
 
 
 
 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां