Subscribe Us

तुम्हारे बिन ये बोझिल देखता  हूँ


✍️हमीद कानपुरी

तुम्हारे बिन  ये बोझिल  देखता  हूँ।

तुम्हारे  साथ  महफ़िल  देखता  हूँ।

 

सनम के साथ मुस्तकबिल जुड़ा है,

सितारे  यार  झिलमिल  देखता  हूँ।

 

शरारत  से   नहीं  देखो  इधर  तुम,

तुम्ही में खुद को शामिल देखता हूँ।

 

बड़ी  तकलीफ़  होती  है  यक़ीनन,

किसीको जबभी बददिल देखताहूँ।

 

अली  शेरे   ख़ुदा  की   याद आती,

कहींकुछजबभी मुश्किल देखताहूँ।

 

*कानपुर


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां