Subscribe Us

हृदय महाराजा सिज़दा

✍️डा रघुनाथ मिश्र 'सहज'

✍️डा रघुनाथ मिश्र 'सहज'

 

हृदय   महाराजा सिज़दा।

इसकी सुनलो सदा-सदा।

     ■■■

कभी न  यह गुमराह करे,

रोके   हर   पल  आपदा।

      ■■■

लो सलाह इससे जब भी,

हो  दिशाहीन व ग़मज़दा।

      ■■■

हृदय  बताए  सही   ढंग,

सही  आदर्श व कायदा।

       ■■■

हृदय यदि मालिक बन जाय,

फिर  जीवन  हो सहजप्रदा।

        ■■■

हृदय     ईश्वर    वही    देव,

वह   सुखदाता   व  संपदा।

        ■■■

हृदय  ब्रम्ह  ब्रम्हाण्ड  वही,

'सहज' वही है सुखद अदा।

        ■■■

*कोटा (राजस्थान)

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां