Subscribe Us

कवित्व-नीति



✍️नितिन भारद्वाज

कवि कविता कमी नहीं,                   

यह जग भव संसार ।       
कमी हमारी हम में,                

रहित सद्भाव उदार ।।

कवि कविता सिमट रही,
आधुनिकता की छाँह ।
तपन मिटाने विवश हम,
बैठ तमस असद् असार  ।।

चहुँ ओर नीति-न्याय रहित,
उष्ण तमस प्रचण्ड प्रसार ।
लोभ जन-मन प्रसर अनीति,
लगे थपेड़े तम बारम्बार ।।

अनीति अज्ञ क्षुदित मन,
तमस तपन असद् निर्वात।
तन सहित मन प्रतीक्षारत,
सत-शीतलता जन संचार ।।

स्वागत नीति मन उदित कर,
चाह प्रसन्नता हर्षोल्लास ।
तमस उष्णता तपन मिटाने,
सावन रहित मम मन उदास ।।

प्रसार उष्णता असद् तपन,
बैठ सत-शीतलता छाँह ।
सत् खेवैया बाट जोह,
पार असद् दे निज राह ।।

आ पुनर्मिल करें हम,
नव शीतलता संचार ।
त्यज उष्णता कपट मन,
कर सद्काव्य "सृजन-श्रृंगार" ।।

यह नीति 'नितिन' नव,
हो जन-जन मन प्रसार ।
सत्य,शौर्य,करुणा सहित,
भागे तम असद् संसार ।।

*गुना, म.प्र.

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां