Subscribe Us

बाहुबली का आदमी



✍️ प्रवीणराय शाह


देखते देखते ही  वो मेरे सामने बड़ा हो गया। बांका सजीला नौजवान बेकारी से जूझ रहा था। अचानक ही उसे पुलिस की नौकरी मिल गई। पोस्ट अस्थाई कांस्टेबल की थी। मैंने सोचा वह मेरी सहायता करेगा। मैंने कहा भैया एक गुंडा हर रोज आनेजाने वाली लड़कियों को छेड़ता है। ये ले 100 का नोट और इसे हवालात का रास्ता दिखाओ।


उसने 100 रु का नोट जेब में सरकाते हुए कहा कर दूंगा अंदर, मगर हालात जस के तस रहे। मैंने कहा भैया काम नही हुआ उसने कहा दादा इससे पंगा लेना अपने आपको मौत के मुँह मैं धकेलना है। यह बाहुबली का आदमी है। इसके तार दूर दूर तक जुड़े हुए है।


*व्यारा,जिला - तापी (गुजरात)

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां