Subscribe Us

आजादी जश्न




✍️मच्छिंद्र भिसे

आजादी जश्न मनाओ भैया,

आज ईद-दिवाली है

जन मन में तिरंगा फहरें

खुशियाँ बहारें लायी है!

 

केसरिया गगन है चमके

सूरज ने ली अंगड़ाई है

वीरों के लहू अर्पण से

एकता सुबह आयी है!

 

आजादी की पवन बहे

शील-विनय गीत गाती है

मन हो सच्चा तन हो अच्छा

शांति की रीत निभायी है!

 

विश्वास-ख़ुशी पाए धरा

हर चेहरे आज छलकायी है

मजदूर हो या किसान भैया

मन हरियाली छायी है!

 

चौबीस घंटे सीमा पर

वीरों की पहरेदारी है

देश को सँवारे रखना

अपनी ही जिम्मेदारी है!

 

हराभरा हो देश अपना

कसम ये सबने खायी है

आजादी भी आजादी का

देखो, जश्न मनाने आयी !

*सातारा (महाराष्ट्र)


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां