Subscribe Us

ज़िन्दगी पर सवाल आया है



✍️प्रदीप ध्रुव भोपाली


ज़िन्दगी पर सवाल आया है।
बेबफा ये ख्याल आया है।

रोज ढलती है ज़िन्दगी नाज़ुक
खामखां ये बवाल आया है।

ज़िन्दगी भर जिसे नहीं फुरसत
बाद मरने कमाल आया है।

जब हुई रुखसती जहां से तब
नाम से उसके माल आया है।

आरज़ू क्या पता न पूरी हो
इस ज़ेहन में मलाल आया है।

इश्क़ में जब बढ़े कदम अपने
बीच में सख्त जाल आया है।


*भोपाल मध्यप्रदेश


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां