Subscribe Us

वो रात मुझमें ही ठहरी रही



✍️नमिता गुप्ता 'मनसी'



कुछ उसकी सुनी, कुछ अपनी भी कही

कुछ कहानियां अब भी अधूरी-दास्तां रही !!

 

ख्वाबों से मिलती मैं कैसे,पलकें ये जिद् में रहीं,

रात भर नींदें भी जागीं, कुछ नमीं उनमें रही !!

 

तारे भी खामोश थे, चांद चुप-चुप सा रहा

गुजरा समां ऐसे कि, कुछ बातें घर करती रहीं !!

 

था दौर ये ऐसा.. फिर भी शमां जलती रही,

रात ये गुजरी नहीं, कहीं मुझमें ही ठहरी रही!!

*मेरठ उ.प्र.

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



 

 


 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां