Subscribe Us

सियासत में बाक़ी नहीं अब  शराफत



*हमीद कानपुरी

सियासत में बाक़ी नहीं अब  शराफत।

कहाँ तक  सुधारेगी  उसको अदालत।

 

दिखावे की हरगिज़ नहीं है  इजाज़त।

दिखाते फिरो मत यहाँ तुम  नफासत।

 

करेगा  वतन की  जो  पूरी  हिफाज़त।

उसे  ही    मिलेगी   अवामी  हिमायत।

 

उन्हे  हार   मिलती  ज़माने  में  हर  सू,

समय की  समझते  नहीं जो नज़ाकत।

 

मुहब्बत  का जज़्बा  रहेगा  जो दिल में,

रहेगी नहीं फिर किसी से भी शिकायत।

 

उसी  से    निकाला   हमें  जा   रहा  है,

रही  जो  कि  सदियों  हमारी विरासत।

 

इलेक्शन फतह को किये कल  थे वादे,

नहीं अब बची कुछ  भी उनमें सदाक़त।

 

न उम्मीद उस से भी ज़्यादा रही  कुछ,

बुरे   दौर   में    है    सुतूने    सहाफत।

 

*कानपुर

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां