Subscribe Us

सावन में बादल के संग- संग



✍️रवि तोमर रजौधा


सावन में बादल के संग- संग बरसा तनहा मन।

और बुलबुलों में यादों के बिखरा तनहा मन।

 

नींद तभी आनी थी,आई जब बरसात गई।

भीतर बाहर बिस्तर करने में ही रात गई।

बादल छटने तक छप्पर सा टपका तनहा मन।

 

चौमासे में सूख रही है आंगन की तुलसी।

छज्जे तक बोगनविलिया की हर पत्ती झुलसी।

बिना तुम्हारे रहता सूने घर सा तनहा मन।

 

कुछ हासिल करने की खातिर छोड़ा था हंसकर।

सपने में आया फिर वो ही बचपन वाला घर।

सिसक सिसक कर दीवारों से लिपटा तनहा मन।

 

मुरैना, मप्र

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां