Subscribe Us

सावन आया



✍️डॉ रघुनाथ मिश्र 'सहज'
आशाओं   के दीप  जलाता, सावन आया।
खुशियों का परचम लहराता, सावन आया।


जन-गण है खुशहाल।
धरती   हुई    निहाल। 
गगन       मतवाला है,
मन को डाल खँगाल।
स्नेह-प्यार  की धार  बहाता,  सावन आया।
खुशियो का परचम लहराता, सावन आया।।


कृषक   है  प्रफुल्लित।
जन-गण-मन प्रमुदित। 
दिलों     में    उल्लास,
प्रेम      हुआ   उदित।
नये-नये  अभियान चलाता  सावन आया।
खुशियाँ का परचम लहराता सावन आया।


सावन     में    सावन   होलें।
मानवता   की   जय    बोलें।
करें   जतन  हम  सब   ऐसे,
उलझन   की   गुत्थी  खोलें।
हृदयों  का  इक बाग लगाता,सावन  आया। 
खुशियों  का परचम लहराता,सावन आया।।


सावन    में     अमृत  बरसा। 
शीतलता    से    मन    हर्षा।
मनवा कहता 'सहज' न अब,
दाल - भारत से  मत  तरसा।
गम   के   कुहरे सभी हटाता, सावन आया।
खुशियाँ का परचम लहराता, सावन आया।

*कोटा(राजस्थान)


 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां