Subscribe Us

मौसम पानीदार हुआ है



 

✍️अशोक 'आनन'

 

मौसम -

पानीदार हुआ है ।

 

हृदय -

बगुला - पंखी उज्जवल ।

गंगा - जल - सा -

निर्मल      -       निर्मल ।

 

प्राणों का -

आधार हुआ है ।

 

श्रद्धा -

सबके  मन  में  उपजी ।

फिर से -

नभ की शोभा  निखरी ।

 

रूखा मन -

आषाढ़ हुआ है ।

 

माॅस्क पहनने -

मेघ        अड़े       हैं ।

पी. पी. ई. पहन -

पेड़       खड़े       हैं ।

 

लाॅक  डाउन -

बाज़ार हुआ है ।

 

मक्सी ,जिला - शाजापुर ( म.प्र.)

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां