Subscribe Us

खुशी का प्रतिशत



✍️विनय मोहन 'खारवन'

राज्य शिक्षा बोर्ड का दसवीं का रिजल्ट आ गया था। शर्मा जी का पूरा परिवार खुशी मना रहा था।बेटा दसवीं में नब्बे प्रतिशत अंक लेकर पास जो हुआ था। खुशी की बात भी थी। मिठाई बांटी गई। घर में जैसे जश्न का माहौल था।

अगले दिन ही दसवीं का सी बी एस ई का परीक्षा परिणाम आ गया। पडोस वाले वर्मा जी की बेटी के इक्यानवे प्रतिशत अंक आये। वर्मा जी मिठाई ले कर आये। शर्मा जी ने मिठाई ली व बधाई दी। पर मन बुझ सा गया। बेटे के नब्बे प्रतिशत तो वर्मा जी की बेटी के इक्यानवे प्रतिशत कैसे आ गए।

उस एक प्रतिशत ज्यादा अंक ने शर्मा जी की नब्बे प्रतिशत खुशी गायब कर दी थी।

*जगाधरी, हरियाणा

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां