Subscribe Us

चाहा जिसे उससे मुहब्बत ना मिली









✍️आयुष गुप्ता

चाहा जिसे उससे मुहब्बत ना मिली

ताउम्र इसके बाद राहत ना मिली

 

जो इश्क़ में बस कैद एक दिन हुए तो

हमको कभी भी फिर जमानत ना मिली

 

सुरत हसीं यूँ तो मिली फिर और भी

तुझ-सी कभी भी खूबसूरत ना मिली

 

मिलता इबादत से जहां में सब, सुना

सो खूब की हमने इबादत, ना मिली

 

करता बग़ावत इश्क़ में मैं भी मगर

मुझको कभी उनसे इजाज़त ना मिली

 

*उज्जैन (म.प्र.)

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 









टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां