Subscribe Us

लोग पागल थे जिनकी अदा देख कर



*हमीद कानपुरी

 

लोग  पागल  थे  जिनकी अदा देख कर।

घर  के  अन्दर  छुपे‌  वो  वबा  देख कर।

 

अनमना  कल हुआ  अनमना  देख कर।

ग़मज़दा   आज  है  ग़मज़दा   देख कर।

 

सैकड़ों   मील   पैदल  चली   मुफलिसी,

दंग  सब   रह  गये   हौसला   देख कर।

 

जब  से  फैली  वबा  कम  है  आलूदगी,

खुश बहुत आजदिल है फज़ा देख कर।

 

आँधियाँ पूंछकर जिससेचलती थीं कल,

चल रहा  आजकल  वो  हवा  देखकर।

 

रोक पाया  न  जिसको  कोई  भी  कहीं,

रुक  गया  है  वही   मयकदा  देख कर।

 

*हमीद कानपुरी

 


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां