Subscribe Us

बेसब्र दिल को समझाते हैं ऐसे



*पूजा झा


बेसब्र दिल को समझाते हैं ऐसे
गम में डूबे इंसान बहुत हैं।


रुलाया है अक्सर अपनों ने मुझको
गैरों के लेकिन एहसान बहुत हैं।


सुकूँ गंवारा होता नहीं सबको
इस कदर कई परेशान बहुत हैं।


अपने ही शामिल गुनहगारों में लेकिन
जीने का फिर भी अरमान बहुत है।


होते हैं सितारे बेशुमार क्षितिज में
टूटते तारों की पहचान बहुत है।


रूठी बेमुरौवत किस्मत भी अपनी
ख्वाईशें हैं पाले, नादान बहुत हैं।


थक गए  अब समझते हैं लेकिन
कब्र में ही शायद आराम बहुत है!


*हाजीपुर,जंदाहा


 


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे- http://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां