Subscribe Us

पत्नी नाम है उसका...



*विक्रम कुमार*


हमेशा खुशियों की परिवार को सौगात देती है


कोई जो लड़खडा़ए तो वो अपना हाथ देती है

पत्नी नाम है उसका सहनशक्ति का है भंडार 

खुशी हो चाहे दुख हो वो सभी में साथ देती है

 

पति के नाम से ही देखती है वो सभी सपने

पराया मानती उनको जो उसके थे कभी अपने

पति के साथ चलने की कसम वो ठान लेती है

पराए घर को पल भर में वो अपना मान लेती है

 

नए परिवार पर वो स्नेह की बरसात देती है

खुशी हो चाहे दुख हो वो सभी में साथ देती है

 

वो आती है बनके दुल्हन सभी कसमें निभाने को

बहू,बहू,पत्नी और भाभी की सभी रस्में निभाने को

ससुर को सास को मां-बाप सा वो मान देती है

ननद देवर को अपने गोद में स्थान देती है

 

अपने प्रेम से वो नफरतों को मात देती है

खुशी हो चाहे दुख हो वो सभी में साथ देती है

खुशी हो चाहे दुख हो वो सभी में साथ देती है

 

*विक्रम कुमार

मनोरा, वैशाली

 

अब नये रूप में वेब संस्करण  शाश्वत सृजन देखे

 









शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733





टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां