Subscribe Us

कहमुकरी



*हमीद कानपुरी*

 

हाथो   हाथ   लिये   है   फिरती।

दूर  कभी  ना   खुद  से   करती।

पाकर   उसको   रहती   गलगल,

कासखि साजन, नासखि मोबल।

(मोबल= मोबाइल)

 

*हमीद कानपुरी,

कानपुर-208004

9795772415

 

 

अब नये रूप में वेब संस्करण  शाश्वत सृजन देखे

 









शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733





टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां