Subscribe Us

सिर पर जाड़ा



*अशोक आनन*
फटी रजाई -
सिर पर जाड़ा ।
मौसम ने -
फिर किया कबाड़ा ।



सूरज ने भी -
फेरीं आंखें ।
उघड़े तन को -
कैसे ढांके ?


थर-थर , थर -थर -


रहे कांपते ।
लेकिन , पीने -
मिला न काड़ा ।



स्वेटर -कंबल -
लगता सपना ।
पेट है सिगड़ी -
जिसमें तपना ।


घुन सरीखी -


चिंता लागी ।
पत्नी ने जब -
आटा झाड़ा ।


*अशोक आनन,मक्सी - 465106 जिला-शाजापुर (म.प्र.)
मोबाइल नं : 9981240575







 






अब नये रूप में वेब संस्करण  शाश्वत सृजन देखे

 









शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733






















टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां