Subscribe Us

पानीदार नदी





*अशोक 'आनन'*

 

पहुंचकर 

शहरी  हुई -

गांव की पानीदार नदी  ।

             किसे सुनाए

             सुनें न कोई -

             उसके मन का दुखड़ा  ।

             उसके अपनों ने ही

        ‌‌‌    ‌ उससे मोड़ लिया 

             अपना मुखड़ा  ।

रेतकर

फरार हुई -

नाव की पानीदार नदी  ।

             जीवन उनका

       ‌‌‌‌‌‌      खतरे में है -

           ‌‌‌  जीवन जिनका पानी है  ।

             दो अक्षर में ही

             छुपी हुई है -

             जीवन की राम कहानी  ।

खौलकर 

लावा हुई -

पांव की पानीदार नदी  ।

         ‌‌‌‌     संस्कृति की है संवाहक जो

              जल का स्त्रोत -

              बनकर रह गई  ।

     ‌‌‌‌‌‌         संस्कारों की व्यथा -कथा को

              इसकी चुप्पी -

              स्वत: कह  गई  ।

शर्म से

पानी हुई -

आब की पानीदार नदी। ।

 

*अशोक 'आनन 'मक्सी,शाजापुर (म.प्र.),मो नं :9981240575

 























शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733







टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां