Subscribe Us

पानीदार हाइकु




‌‌‌‌‌‌‌‌‌ ‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌*अशोक 'आनन'*


पानी -पानी में
पानीदार नदियां
पानी हो गई ।
‌‌‌‌‌‌ ‌‌‌ ***
मत खींचिए -
पानी , पानी के बीच
धर्म की भींत ।
‌ ***
कहीं न मिला
खो गया है जो पानी
चिंतित सभी ।
‌ ***
पानी को देख
अमर्यादित हुईं
साध्वी नदियां ।
***
देख नदियां
पानी , पानी न रहा
बहक गया। ।
***
पानी के आगे


चले नहीं किसी की
मन का राजा ।
‌ ‌ ***
पानी की चाल
भांप न सका कोई
मात ही खाई ।



‌‌‌‌‌*अशोक 'आनन',11/82, जूना बाजार , मक्सी,जिला -शाजापुर ( म. प्र.)मोबाइल नं :9981240575/9977644232






 
























शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733







टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां