Subscribe Us

नफ़रतों के दर हिलाना चाहता हूँ



*हमीद कानपुरी*


नफ़रतों  के   दर  हिलाना  चाहता हूँ।

मुल्क को फिर  जगमगाना चाहता हूँ।

 

दिल नहीं हरगिज़ दुखाना  चाहता हूँ।

वो   मनायें    मान  जाना   चाहता हूँ।

 

जश्न   सारे    ही   मनाना  चाहता हूँ।

गीत  ग़ज़लें   खूब   गाना  चाहता हूँ।

 

मैक़दे  की   चाभियाँ  दे  दीं सभी यूँ,

ज़र्फ़  उनका   आज़माना  चाहता हूँ।

 

थक गया हूँ अनवरत रहते  सफ़र में,

एक अच्छा  सा  ठिकाना  चाहता हूँ।

 

*हमीद कानपुरी कानपुर मो.9795772415

 





















शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733







टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां