Subscribe Us

न तेरा ठिकाना न मेरा ठिकाना



*संगीता श्रीवास्तव*


न तेरा ठिकाना न मेरा ठिकाना
चला चल मुसाफ़िर बहुत दूर जाना |

ये तेरी कहानी ये मेरी कहानी
ये दो चार दिन की है बस ज़िंदगानी
सुनाता यहां कौन किसको फ़साना
चला चल मुसाफ़िर बहुत दूर जाना |

है अनजानी राहें सजी ठोकरों से
मगर हम बढ़ेंगे निडर पत्थरों से
न कर इतनी परवाह है बेघर ज़माना
चला चल मुसाफ़िर बहुत दूर जाना |

नज़र भर की बातें ही मुझसे करो तुम
नहीं लौट जाने की ज़िद अब करो तुम
किसी बात का फिर बनाकर बहाना
चला चल मुसाफ़िर बहुत दूर जाना |

मेरे आज दिन रात पल पल में रहती
वो बहती नदी राज कल कल में कहती
हवाओं की धुन पे सजाकर तराना
चला चल मुसाफ़िर बहुत दूर जाना |

*संगीता श्रीवास्तव
छिंदवाड़ा मप्र


 

अब नये रूप में वेब संस्करण  शाश्वत सृजन देखे

 









शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733






















टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां