Subscribe Us

निमाड़ी रचनाएँ (निमाड़ी दिवस पर विशेष)







(निमाड़ी, मध्य प्रदेश के निमाड़ क्षेत्र की बोली है। यह क्षेत्र मालवा के दक्षिण में महाराष्ट्र से सटा समीवर्ती क्षेत्र है। निमाड़ी बोलने वाले जिले हैं - बड़वानी,[खंडवा ],पूर्वी निमाड़पश्चिमी निमाड़धार जिले के कुछ भाग , तथा कई गाँव ऐसे है जिनमे निमाड़ी बोली जाती है)



 

*अमित भटोरे*


 

दोस्ती यारी की  हेर  राखजे

खेत की एक्कज मेर राखजे

 

झूट को नाळो उफळई जासे

रस्ता  मs  तू   फेर   राखजे

 

अनाधुन  गाड़ी  मत  दवड़ा 

दुर्घटना   सी    देर   राखजे

 

जिनगी का  इना जंगल मs

साथ   सद्दा   सेर   राखजे

 

'अमित' सबसी मिली न रयजे

मन  मs  कदि मत बेर राखजे

-------------------------------------

 

रडी रह्याज क्यों एतरा दाजी

छोराज एची गा पतरा दाजी

 

चोर पुलिस सब एक हुइगा

हुया जान का खतरा दाजी

 

उधारी माथा मs जीवणs वाळा

हवा मs उड़ी रया केतरा दाजी

 

फ़ांस गड़ज केला खाण मs

देखी लेव सब नखरा दाजी

 

एकठोडा आँव रयता नी हई

खेत का वाटा सतरा दाजी

 

मोबाइल नs मs मेळो देखsज 

कहाँ जायज आँव जतरा दाजी

 

'अमित' फैशन मs लम्पट हुया

पेरज फाटला चतरा दाजी

-------------------------------------

 

कोई करsज अन कोई भरsज

कोई वावsज अन कोई चरsज 

 

खेत की मेर सी संभळई नs जाजो

पड़ौसी किरसाण बदेबाद लड़sज

 

मावजा का पईसा सी देवाड़ी गाड़ी

दगडू को छोरो अब खोबज उड़sज

 

हतई पs बठी नs चकळई रा दाजी

गेट की जग अब मोबाइल धरsज

 

केखs कवां अवं रयण द 'अमित'

जीवता जीव क्यों फिर रोज मरsज

-------------------------------------

 

तमरा खोबजs ठाट छे दाजी

ताखड़ी सी बड़ो बाट छे दाजी

 

कुर्सी पs बठी नs कम्मर मुडज

अपणी बैठक टाट छे दाजी

 

मॉल नमs उ माल नी मिलतो 

गांव नs मs जो हाट छे दाजी

 

रावळया नs सरी नेता लगज

पाछला जलम का भाट छे दाजी

 

अब केखs कई कवां हम 'अमित'

वात नs वोकी सई साट छे दाजी

-------------------------------------

 

रडतs-रडतs गाई रयो केऊँ

बीज बबूल का वाई रयो केऊँ

 

झूटा नs की सेरी मs सी

निकळई न तू जाई रयो केऊँ

 

दाळ मइंगी छे तो चटनी वाट

उधारी माथा खाई रयो केऊँ

 

सबसी मिट्ठो मिट्ठो बोल

लीम का पत्ता चाई रयो केऊँ

 

गाय-बइल छे अपणी पईचाण

ट्रैक्टर-थ्रेशर लाई रयो केऊँ

-------------------------------------

 

जमाना की वात मs आवजे मत

भित्तर की वात ढ़ेल तक लावजे मत।

 

बूढ़ा आड़ा नs को कईणो सुणजे

वात वात पs डोळा बतावजे मत

 

कुटुंब संगात प्रेम सी रहिजे 

अल्लग् सी चुलो जाळावजे मत

 

सबसी सच्ची सच्ची कइजे

झूटा नs को साथ निभावजे मत

 

रुखा सूखा मज़ सुख छे 'अमित'

सोन्ना का पाछ नींद उड़ावजे मत

 

*अमित भटोरे,खरगोन (मध्यप्रदेश),मो. : 9009311211


 






टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां