Subscribe Us

भाषा ही तो हिंदी है(कविता)


      -नीरज कुमार मनचंदा

जन जन के सम्मान की

देश के गौरव गान की

भाषा ही तो हिंदी है

 

हर जन के कल्याण की

राष्ट्र के अभिमान की

भाषा ही तो हिंदी है

 

देश के संविधान की

एकरूपता के मान की

भाषा ही तो हिंदी है

 

वतन के उत्थान की

राष्ट्र सुधा रस पान की

भाषा ही तो हिंदी है

 

भारत के निर्माण की

आन बान शान की

भाषा ही तो हिंदी है

 

-नीरज कुमार मनचंदा

506 पुलिस लाइन एरिया

हिसार हरियाणा

मो-9896002390

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां