Subscribe Us

दर्द का रिश्ता


रंजना फतेपुरकर

धरती ने स्त्री से एक
दर्द का रिश्ता जोड़ा है
अपनों ने ही बेदिल हो
उसका नन्हा सा दिल अक्सर तोड़ा है

बेटी बेटी कहकर 
जिन्होंने बचपन से दुलारा था
पल पल उसको अपना नहीं
पराया धन बताया था

मेरी प्यारी रानी बेटी कहकर 
दूसरे घर विदा कराया था पर
साथ ही उसे डोली से अर्थी तक का 
सबक हर पल याद कराया था

पर क्या इस पराये धन को
उस घर ने भी कभी अपनाया था
उन्होंने तो दहेज के यज्ञकुंड में 
इस बेटी को बली चढ़ाया था

बेटी को तो सिर्फ उसकी 
धरती माँ ने ही अपनाया
इस नाज़ुक सी कोमल कली को
अपने आँचल में समेट
माँ का रिश्ता निभाया

लेकिन स्त्री!
अब तुम जागो
अबला नहीं सबला बनो
आशाओं का स्वर्णिम सवेरा आया है
यज्ञ कुंड की अग्नि में अब
पापियों को भस्म करने का जमाना आया है

स्त्री तुम शक्ति हो दुर्गा हो
हर संकट को हरा सको
ऐसी शक्ति स्वरूपा हो

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां