Subscribe Us

नव प्रभात

भानु प्रताप मौर्य 'अंश'
हमने नव प्रभात को देखा ।
बहते जल प्रपात को देखा।

सुमनों को मुस्काते देखा।
विहगवृन्द को गाते देखा।
पुष्कर-तट पंकज-पुष्पों पर,
मधुकर - दल मँडराते देखा।

उगते देखा हमने रवि को।
उसकी मोहक सुन्दर छवि को।
घोर तिमिर छिप जाता भय से,
शशि को मान बढ़ाते देखा।

देखा हमने तुहिन - कणों को।
जो है लिपटे हुए तृणों को।
दृश्य प्रकृति का उषाकाल में,
जो भी जागा उसने देखा।

हमने नव प्रभात को देखा।
बहते जल प्रपात को देखा।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां