Subscribe Us

डॉ.रघुनाथ मिश्र सहज के तीन मुक्तक

डा. रघुनाथ मिश्र 'सहज'

सर्दी से सर्द, कुहासे का खंजर।
बड़ी सावधानी, ज़ोखिम का मंजर।
गरीबी -अमीरी, व छोटे -बड़े का,
दिखता ऐसे में, बड़ा सारा अंतर।।
*******************************
ध्यान धरें अब, ध्यान धरें हम।
ज्ञान भरें अब , 
ज्ञान भरें हम।
शान रहे अब ,शान्त रहे जग,
'सहज' रहें अब, पीर हरें हम।।
*******************************
अखबार में दिखता न, समाचार आज कल।
संसार में दिखता न, सदाचार आज कल।
न्यूज़ हर होती नहीं है, व्यूज से सज्जित,
खबरें तो बढ़ाती हैं, अनाचार आज कल।।

टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां