Subscribe Us

वक़्त अपना  नहीं करो जाया


✍️हमीद कानपुरी

वक़्त अपना  नहीं करो   जाया।

वक़्त  है  क़ीमती  बहुत  काया।

 

रौशनी  हो   तो  साथ  रहता  है,

साथ  छोड़े   है  रात  में  साया।

 

साथ जाते  फ़क़त  करम अपने,

और सब इस  जहां में है  माया।

 

बातअपने रफी की क्या कहिए,

एक  से   एक   गीत  है   गाया।

 

चीज़  हर  एक यूँ  लगी  अच्छी,

कलसे भूखा था आजहै खाया।

 

*कानपुर

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां