Subscribe Us

रोबोटिज्म नवीनतम वैश्विक तकनीक पर हिन्दी में रोचक किताब


आज जिसे टेक्नालाजी में किंचित भी रुचि है , उसने रोबोट सोफिया  का नाम जरूर सुना होगा . इन दिनो सोफिया को दुनिया का सबसे अच्छा रोबो माना जाता है क्योंकि यह इंटरएक्टिव रोबोट है . सोफिया हमसे बातें कर सकती है , हमारे प्रश्न का उत्तर दे सकती है और यहां तक कि लोगों के चेहरे के हाव भाव के अनुरूप  62 तरह के एक्सप्रेशंस भी प्रत्युत्तर में बना सकती हैं . हाल ही में सऊदी अरेबिया कि सरकार ने इसे वहां कि नागरिकता दी है . अन्य कुछ चर्चित रोबोट्स में असीमो  को दुनिया का सबसे पावरफुल humnoid robo  माना जाता है ,इसे हौंडा ने बनाया है .  शायद आपने हॉलीवुड की मूवी स्टार वॉर्स देखी हो,  अगर हां तो आपको रोबो bb-8 की याद होगी , rolling boats  रोबो एल जी कंपनी के द्वारा बनाया गया ऐसा ही रोब  है, जब आप घर पर न हो तो यह हमारे घर का खयाल रख सकता है .  


अभी जब कोरोना के चलते लम्बे लाकडाउन में पत्नी ने घर पर काम करने वालो को सवैतनिक छुट्टी पर भेज दिया तो बच्चो ने हमारी मदद के लिये एमेजन से झाड़ू , पोछे के लिये एक आई लाइफ का छोटा सा रोबो भेज दिया , रात जब हम सो रहे होते हैं , यह अपने आप शुरू होता है , पूरे घर में घूम कर सफाई करता है और सुबह जब हम सोकर उठते हैं तो इसे अपने स्टेशन पर फिर से चार्ज होता हुआ पाते हैं , पत्नी ने इसे शांताबाई कहना शुरू कर दिया है . इसी तरह एलेक्सा से आप सभी परिचित ही हैं . सामान्य घरो में भी अब आटोमेटिक वाशिंग मशीन , बर्तन धोने की मशीन आदि अपनी लाजिकल कृत्रिम बुद्धि से ही प्रोग्राम के अनुकूल पानी , साबुन ले लेती हैं , और काम पूरा होने पर स्वयं ही बंद हो जाती हैं , माइक्रोवेव ओवन प्रोग्राम के मुताबिक भोजन पका देती है . आज हर हाथ में मोबाईल है , अनेकानेक एप्स हैं जो आपकी एक वायस कमांड पर फोन लगाने से लेकर बहुत कुछ कर देते हैं , बोलकर टाईपिंग , निर्धारित समय पर अलार्म , मेल सेंडिग और जाने क्या क्या यह सारा करिश्मा आर्टीफीशियल इंटेलीजेंस का है .  1984 में मेरा एक लेख छपा था " ऐसे तय करेगा शादियां कम्प्यूटर " .  19वीं सदी के अंतिम दशक में हमने देखा कि मेट्रोमोनियल साइट्स ने किस तरह परिचितों ,रिश्तेदारों , पंडितो , नाईयों द्वारा तय होती शादियों को सात समंदर पार के आयाम दे दिये हैं . यह सब आर्टीफीशियल इंटेलीजेंस के हमारे जीवन में बढ़ते हस्तक्षेप का परिणाम ही है .

मैं हिन्दी में वैज्ञानिक विषयो पर बहुत लम्बे समय से लेकन करता आ रहा हूं . जब मुझे डा देवेंद्र जोशी की पुस्तक " रोबोटिज्म के अजब गजब किस्से " पढ़ने मिली तो मैं इसे रुचिपूर्वक पूरा पूरा पढ़ गया .  मुझे यह जानकर आश्चर्य भी है कि इस कृति के लेखक डा देवेंद्र जोशी की शैक्षिक उपाधियां कम्प्यूटर विज्ञान से संबंधित नही हैं , फिर भी उन्होने यह अत्यंत सारगर्भित , बेहद महत्वपूर्ण , नई जानकारियों  से भरपूर किताब बहुत ही उत्तम , सुरुचिपूर्ण तरीके से लिखी है .यह दशक ए आई अर्थात आर्टीफिशियल इंटेलीजेंस का ही है .  कृत्रिम बुद्धिमत्ता पर हिन्दी में मौलिक सामग्री नगण्य है . जो इक्का दुक्का लेख पढ़ने मिलते हैं वे अनुवाद हैं . हमारे देश में इस क्षेत्र में बहुत काम होने बाकी हैं . इस तरह की पुस्तको से निश्चित ही हिन्दी भाषी छात्रों में ए आई में रुचि जागृत होगी . चिकित्सा के क्षेत्र में , रोबोट्स बहुत कुछ कर रहे हैं , हाल की कोरोना महामारी से निपटने में भी जब डाक्टर को सीधे संपर्क से बीमारी का खतरा है , रोबोट्स का महत्व उल्लेखनीय है . डा देवेंद्र जोशी ने बड़े सरल शब्दों में रोबोट्स के विषय में  पाठकीय  कौतुहल , जिज्ञासा ,आश्चर्य शांत करते हुये विस्तृत जानकारी तो दी ही है कृत्रिम

बुद्धिमत्ता के प्रकार , सांप्रदायिकता से लड़ने को तैयार कृत्रिम बुद्धिमत्ता ,खेलो व लड़ाईयो में रोबोट्स के उपयोग , जैसे अनेकानेक बिंदुओ पर भी बहुत रोचक विवरण देकर हिन्दी में इस विषय पर साहित्य उपलब्ध करने का जो महत्वपूर्ण कार्य किया है उसकी जितनी भी प्रशंसा की जावे कम है . यह इस विषय में उनकी गहन अभिरुचि व अध्ययन का परिचायक है .मुझे यह किताब हर हिन्दी पाठक के लिये उपयोगी लगती  है , न केवल ज्ञानवृद्धि वरन विश्व की नवीनतम तकनीक के विषय में सामान्य पाठक के मन में भी  अभिरुचि पैदा करने में यह पुस्तक सहायक है .

 

✍️विवेक रंजन श्रीवास्तव, जबलपुर

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 

 


 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां