Subscribe Us

नारायण


✍️रश्मि वत्स
हे
लक्ष्मी पति
मेरी लाज प्रभु
है तिहारे
हाथः

मेरे
बिगड़े काज
संवारो हे परमात्मा
पडूँ तुम्हारे
पांव।

शीश
सदैव कृपा
रखना करूँ विनती
हे ईश्वर
पूतात्माः

तेरी
भक्ति में
प्राण तज दूँ
नारायण यही
इच्छा।

*मेरठ (उत्तर प्रदेश)


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां