Subscribe Us

डर लगता है


✍️आशीष तिवारी निर्मल

सहमा - सहमा सारा शहर लगता है

कोई गले से लगाए तो,डर लगता है।

 

आशीष लेने कोई नहीं झुकता यहाँ

स्वार्थ के चलते पैरों से,सर लगता है।

 

अपना कहकर धोखा देते लोग यहाँ

ऐसा अपनापन सदा,जहर लगता है।

 

इंसान-इंसान को निगल रहा है ऐसे

इंसान-इंसान नही,अजगर लगता है।

 

साजिश रच बैठे हैं सब मेरे खिलाफ

छपवाएंगे अखबार में,खबर लगता है।

 

साथ पलभर का देते नही लोग यहाँ

टांग खींचने हर कोई,तत्पर लगता है।

 

*लालगांव,रीवा मध्यप्रदेश

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां