Subscribe Us

दहेज मुक्त विवाह


✍️बीना रॉय

चलो ख़त्म मिलकर दहेज का रिवाज हम करें

अंत से इस कुप्रथा के सुखी समाज हम करें

माँ के गहने गिरवी रखे जाते जिसे वो रखती थी कभी सहेज कर

बिक जाता जमीन पिता का करने को खर्चा इस दहेज पर

डूब जाते हैं कर्ज मे भाई अपने 

बहन को ससुराल भेजकर

इस अपयशी रिवाज के विरोध मे कुछ नेक काज हम करें

अंत से इस कुप्रथा के सुखी समाज हम करें

 

वर हो चाहे जैसा पर वधू हो सुंदर और सुसंस्कृत

मांगे बढती जाती हैं लोभ कर लेते  वो अनियंत्रित

भूलकर रिश्तों की मधुरता जो ध्यान कर लेते हैं धन पर केंद्रित

ऐसे लोभियों को कन्या सौंप कर कैसे नाज़ हम करें

अंत से इस कुप्रथा के सुखी समाज हम करें

 

जो बेटी बाबुल के आंगन मे चिड़ियो सी चहचहाती है

वही ताने से दहेज के अक्सर ससुराल मे घुट जाती है

कहीं-कहीं तो धन की लोलुपता मे वो जिंदा जला दि जाती है

ऐसी वेदनाओं के जड़ को काट कर नई आग़ाज़ हम करें

अंत से इस कुप्रथा के सुखी समाज हम करें

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां