Subscribe Us

बे ख़बर आदमी



✍️हमीद  कानपुरी


बा ख़बर   आदमी।

बा असर   आदमी।

 

बे असर    ही  रहे,

बे ख़बर   आदमी।

 

लड़ रहा रात दिन,

इक समर आदमी।

 

कुछ नहीं कर सके,

है  लचर   आदमी।

 

चाहता   हर  कोई,

खुशनज़र आदमी।

 

आदमी    का  बने,

हम सफर आदमी।

 

*कानपुर 

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां