Subscribe Us

तुम साथ रहना



✍️आशीष तिवारी निर्मल

दिन हो चाहे रात, तुम साथ रहना

बिगड़े कोई बात, तुम साथ रहना! 

 

जिंदगी की डोर है अब तेरे ही हाथ

समझ मेरे जज्बात,तुम साथ रहना! 

 

दूरियों के दिन भी जैसे-तैसे गुजरेंगे

रंग लाएगी मुलाकात,तुम साथ रहना! 

 

हमारा मिलना भी अखरेगा कुछ को 

उठते रहेंगे सवालात,तुम साथ रहना! 

 

हर पल खड़ा मिलूंगा मैं तुम्हारे साथ 

चाहे जो हो हालात, तुम साथ रहना!

 

*लालगांव जिला रीवा

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां