Subscribe Us

टूट जाते हैं किनारे



✍️रमाकान्त चौधरी

 

अंधियारा निश्चित छटेगा, गर शमा जल  जाए तो।

मंजिल खुद आकर मिलेगी,गर कदम उठ जाए तो।

 

पेड़   तूफानों   में   वो   हरगिज़   ही  टूटेगा  नही,

वक़्त  को  पहचान  कर ,वो  अगर  झुक जाए तो।

 

कुछ  भी  नामुमकिन  नही  है  इस  जहाँ में दोस्तो,

टूट   जाते   हैं   किनारे , गर   नदी   उफ़नाये   तो।

 

हर    परिंदे  में  है  ताक़त  आसमां  छू  लेने   की,

छोड़  कर  दुश्वारियां , गर  पंख  वो  फैलाए   तो।

 

हम  हैं तो मुमकिन है ये राहत  उसे  मिल जाएगी,

बस  अकेले  बैठ  कर  मेरी  ग़ज़ल  वो  गाए  तो।


 

*झाऊपुर, लखीमपुर खीरी उप्र

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां