Subscribe Us

शत शत नमन प्रणव दा



✍️डॉ.अनिल शर्मा 'अनिल'


हे भारत रत्न, प्रणव दा जी
अब चलें गये तुम प्रभुधाम।
सत्य सनातन धर्म पोषक,
हे ब्रहमशक्ति तुमको प्रणाम।
प्रथम नागरिक रहे आप,
पद किया आपने गौरवान्वित।
हर निर्णय लिया दृढ़ता से
मन रहा नहीं कहीं शंकित।
स्पष्टवादिता,विनम्रता की
करता प्रशंसा हर जन मन।
भारत मां के सच्चे सपूत,
तुमको है बारंबार नमन।।
*धामपुर उत्तर प्रदेश


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां