Subscribe Us

सभी ज़ख्मों को हम बस यूँ ही ताज़ा छोड़ आए हैं



✍️बलजीत सिंह बेनाम


सभी ज़ख्मों को हम बस यूँ ही ताज़ा छोड़ आए हैं
शजर को गाँव में हम साथी रोता छोड़ आए हैं


तेरे अश्कों के दरिया से बुझानी प्यास है तो ही
सभी नदियाँ समंदर ये ज़माना छोड़ आए हैं


अगर ड़रते क़ज़ा से इस क़दर तो ये बताओ क्यों
सदा कहते थे जीने की तमन्ना छोड़ आए हैं


कहाँ आता मज़ा टी.वी. में जो खेलों में आता है
तेरे कहने पे ही नट का तमाशा छोड़ आए हैं


कभी क्यों पढ़ नहीं पाए हमारी आँख में हमदम
सदा से प्यार का हम तो ख़ुलासा छोड़ आए हैं


*हाँसी,ज़िला हिसार(हरियाणा)


 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां