Subscribe Us

मैं शहर वो, सदियों से जो सोया ही नहीं



✍️नमिता गुप्ता 'मनसी'

 


दिल हूं, धडकता भी हूं, पर सांसें क्यों गुम हैं

मैं वो शहर हूं, सदियों से जो सोया ही नहीं !!

 

रुको,क्यों बदनाम कर रहे हो उनकी बातों को

मैं वो आईना हूं, देखकर भी बोला ही नहीं!!

 

गुजर जातें हैं लोग, यूं ही मंजिलों की तरफ

मैं सड़क वो, न पाया कुछ, खोया भी नहीं!!

 

मत करो बात तुम भी, इतना अजनबी होकर

सुनोगे एक दिन, अभी तक भी बोला जो नहीं!!

 

*मेरठ

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां