Subscribe Us

माखन के चोर



✍️रूपेश कुमार

 

माखन के चोर ,

गोपियों की नैनो के मोर,

तूने कैसा खेल किया ,

दुनिया सारी तुम्हारे है ओर ,

 

मीरा तुम्हारी दीवानी ,

राधा तुम्हारी दीवानी ,

दुनिया तुम्हारे दीवाने ,

तेरे हाथों युग बना घनगोर,

 

कहीं जन्मा तू ,

कहीं पला तू ,

कहीं खेला तू ,

कहीं रहा तू ,

 

तेरे रूप अनेक ,

तेरे रंग अनेक ,

किसी के दिल में तू ,

किसी के सांसो में तू ,

 

तू दुनिया के पालन हारी,

तू दुनिया के सबके दुलारे ,

तू है तो दुनिया है ,

तू है तो हम है !

 

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां