Subscribe Us

जय कन्हैयालाल की



✍️डा. रघुनाथ मिश्र 'सहज'
बड़ी कृपा जगपाल की।
जय कन्हैयालाल की।

मधु-कैटभ को तुमने मारा।
असुरों से है जगत उबारा।
महाघमंडी कंश असुर को,
महामौत के घाट उतारा।
गुण गाएँ जग-ढाल की।
जय कन्हैयालाल की।

बसुदेव - देवकी बड़भागी।
उनसे जन की किस्मत जागी।
गिरिधर की महानुकंपा से,
कठिनाई खुद डर कर भागी।
आफत आ गई खुद काल की।
जय कन्हैयालाल की।

नंद -यशोदा पुलकित।
द्वापर युग सब हर्षित।
अभय हुए ब्रजवासी,
ब्रम्हाण्ड सारा चकित।
जय-जय-जय गोपाल की।
जय कन्हैयालाल की।


*कोटा (राजस्थान)

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां